Posts

कर्म सिद्धान्त और भारतीय वैदिक ज्योतिष

जो काम होना ही है, हम चाहें न चाहें, भाग्य में लिखा ही है तो फिर पाप क्या और पुण्य क्या ???

कर्म, भाग्य अथवा पुरूषार्थ---एक समस्या:

कर्म सिद्धान्त

कर्मों का विभाजन और उनका आधार