मासिक राशिफल----------मई 2013

यह मासिक भविष्यफल जन्मराशि पर आधारित है । अत: सही फलादेश के लिए नामराशि की अपेक्षा अपनी जन्मराशि के अनुसार ही इसे पढें । यदि किसी को अपनी जन्मराशि की जानकारी नहीं है, तो ईमेल के जरिए अपना जन्म विवरण प्रेषित कर अपनी राशि मालूम कर सकते हैं ।

मेष राशि:- माह का पूर्वार्ध आपके लिए बेहद सकारात्मक रहेगा. शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक प्रफुल्लता बरकरार रहेगी. अभी तक आपके जो भी कार्य अटके पडे थे, वे सभी भाग्य के सहयोग से पूर्णता को प्राप्त होने लगेंगें. इस समय भाग्य का प्रबल साथ-सहयोग मिलने वाला है, फ़ायदा उठायें. हालाँकि जीवन साथी का स्वास्थ्य थोडा कमजोर बना रहेगा और उनसे किंचित वाद-विवाद व मनोमालिन्य की स्थितियाँ यदा-कदा निर्मित होती ही रहेंगीं. समझदारी से काम लें.
माह के पूर्वार्ध में मन की चंचलता बढी हुई रहेगी. वाणी पर संयम बनाये रखें. अकारण ही थोडा अस्वस्थता का अनुभव करेंगे. मित्र, नाते-रिश्तेदारों से आपकी अपेक्षाएं बढी हुई रहेंगी, जिनके पूरा ना होने से आपको झुंझलाहट हो सकती है. साथ ही व्यर्थ की भगदौड भी बनी रहेगी. जीवन साथी से मासांत आते-आते सम्बंध सु-मधुर हो सकेंगें. मानसिक एकाग्रता बनाये रखें तो विद्यार्थियों के लिये यह समय मनोवांछित सफ़लता प्रदान करने वाला सिद्ध होगा. अभक्ष्य पदार्थों का सेवन कदापि ना करें.

शुभ तिथियाँ:- 3,5,7,13,14,27,28
उपाय :-
(1) पीपल के वृक्ष का नित्य जल से सिंचन करते रहें.

(2) मस्तक पर नित्य प्रात: पीले चंदन का तिलक लगायें.
---------------------------------------------------------------
वृष राशि:- माह की शुरूआत से ही आपका प्रराक्रम बढा रहेगा. मेहनत करने से पीछे नही हटेंगे. रोजी-रोजगार में अच्छी सफ़लता के योग बन रहे हैं, विशेषत: नौकरी पेशा व्यक्तियों के लिये यह समय काफ़ी बढिया रहने वाला है. भ्रमण, मनोरंजन और विलासिता के कारण खर्च करने की क्षमता बढी रहेगी, जिसकी वजह से मासान्त में स्वयं पर किंचित क्रोध का आना तो स्वाभाविक है. विदेश जाने हेतु प्रयासरत्त जातकों को इस दिशा में यह समय सफ़लता प्राप्ति के संकेत दर्शा रहा है.
माह का उतरार्ध आजीविका प्राप्ति के लिहाज से काफ़ी अच्छा रहेगा. जिससे कि बेरोजगार जातकों को यह समय रोजगार दिला पाने में सहायक रहेगा. समय का सदुपयोग करें क्योंकि मानसिक रूप से आप अपने आसपास बहुत सी ऋणात्मक उर्जा का संचय करते जा रहे हैं,जिसके फलस्वरूप आपमें आलस्य और प्रमाद हावी रहेगा.

शुभ तिथियाँ:-17,22,24,25,26,27
उपाय :-
(1) चींटियों को चावल, शक्कर मिश्रित कर डालते रहें.
(2) प्रत्येक सोमवार शिवलिंग पर अंजुल भर सफेद पुष्प चढाया करें.
---------------------------------------------------------------
मिथुन राशि:- इस माह का प्रारंभ आपके लिये धनदायक रहने वाला है. अविवाहित जातकों के विवाह हेतु रिश्ते की बात पक्की हो सकती है. कार्य-व्यवसाय में भरपूर सफ़लता मिलती रहेगी. हालाँकि 9 तारीख से किसी मूल्यवान वस्तु की चोरी अथवा किसी नजदीकी व्यक्ति से झगडे के योग निर्मित हो रहे हैं, अत: विशेष तौर पर सावधानी बनाये रखें.

माह के उतरार्ध में घर परिवार में किसी नये सदस्य आगमन की संभावना है. कोई शुभ प्रसंग की खबर मिलेगी. इस समय में आपके खर्चे काफ़ी बढे हुये रहेंगे. भ्रमण मनोरंजन के लिये बाहर जाने का अवसर मिलेगा. कुल मिलाकर आय-व्यय बराबर रहकर यह माह आपके लिए सुख एवं शांतिपूर्वक व्यतीत होने वाला है.

शुभ तिथियाँ:- 2,6,8,9,10,16,24
उपाय :-
(1) रूद्राभिषेक करें और शिव चालीसा का पाठ करते रहें.
(2) जलपूरित घट का दान करें.
 ---------------------------------------------------------------
कर्क राशि:- माह के प्रारंभ से ही शरीर में रूग्णता महसूस करेंगे. जो व्यक्ति पहले से ही किसी रोग से पीडित रहे हैं, उनका पुराना रोग पुन: फ़िर से उभर आने की संभावना है. साथ ही स्वयं की माता अथवा घर की किसी बुजुर्ग स्त्री हेतु भी यह समय किंचित कष्टकारक रहने के कुयोग निर्मित हो रहे है.

माह के उतर्रार्ध में ही रोगादि भय से छुटकारा मिल पाएगा. लेकिन धन, व्यापार एवं व्यवसाय मे किंचित रूकावट अनुभव करेंगे. जीवन साथी से संबंध किंचित तनावपूर्ण रहेंगे लेकिन इष्ट-मित्रों का अच्छा साथ सहयोग मिलता रहेगा. बेरोजगार जातकों को आजीविका पक्ष में मनोनुकूल सफ़लता प्राप्ति के अति उत्तम योग निर्मित हो रहे है. किसी परीक्षा/प्रतियोगिता की तैयारी में जुटे जातक समय का यथेष्ट लाभ उठा पायेंगें.

शुभ तिथियाँ:-1,7,10,16,22,29,30
उपाय:-
(1) गाय को हरा चारा खिलाएं.
(2) श्री गणपति स्तोत्र का नित्य पाठ करें.
------------------------------------------------------------
सिंह राशि:- माह के प्रारंभ से ही भाग्य का सुंदर साथ मिलेगा. अभी तक के अटके कार्य अल्प प्रयास से ही संपूर्णता को प्राप्त होंगे. धार्मिक कार्यों में खर्च होगा और मन प्रफ़ुल्लित रहेगा. संतान प्राप्त होने के प्रबल योग हैं. 

माह के उतरार्ध में धन का आगमन सहज होगा. व्यापार व्यवसाय में सफ़लता प्राप्त होकर आशातीत लाभ प्राप्त होने की संभावना है. लेकिन आपके खर्चे भी उसी अनूरूप बढे हुये रहेंगे. विदेश गमन के इच्छुक व्यक्तियों को आसानी से वीजा प्राप्त होने की संभावना है. मन में किंचित खिन्नता महसूस होगी लेकिन अपने कर्म में कमी ना आने दें, सफ़लता मिलेगी. माँस-मदिरा इत्यादि तामसिक अभक्ष्य पदार्थों का सेवन न करें.

शुभ तिथियाँ:- 1,2,6,7,9,11,14,15,23
उपाय :-
(1) शाम के समय पीपल के वृक्ष के नीचे धूपबत्ती लगायें.
(2) ॐ नारायणाय सुरसिंहासनाय नम: मंत्र का नित्य जाप करें।
---------------------------------------------------------------
कन्या राशि:- माह के प्रारंभ में मन अनायास खिन्न रहेगा. कोई भी कार्य करने में मन नही लगेगा. बेवजह आलस्य और प्रमाद हावी रहेगा. मन की चंचलता अतिशय बढी हुई रहेगी इस वजह से झुंझलाहट और परेशानी ज्यादा बडेगी. मन-मस्तिष्क में ऋणात्मक भावों की अधिकता रहेगी. अंधविश्वास जैसी कुरीतियों के प्रति रूझान बढेगा. कोर्ट-कचहरी अथवा किसी राजकीय कार्य हेतु धन का वृथा व्यय होने का अंदेशा है.
4 तारीख के पश्चात कोई पुराना रूका हुआ धन या बीमे की राशि प्राप्त होने की इस समय प्रबल संभावना है. यदि आपका धन कहीं फंसा हुआ है तो आलस्य एवं संकोच का त्याग कर प्रयास आरम्भ करें, धन मिलने में आसानी रहेगी. यह समय इंजीनियरींग तथा किसी शोधरत्त छात्रों को अपने कार्य में अच्छी सफ़लता मिलने का है.
माह के उतरार्ध में आपको भाग्य का अच्छा साथ मिलेगा. हालाँकि थोडा परिश्रम की अधिकता अवश्य रहेगी किन्तु आपको उसका प्रतिफल भी अवश्य ही प्राप्त होगा. संतानेच्छुक दम्पत्ति प्रयास करें तो गर्भधारण की प्रबल संभावनायें बन रही हैं.

शुभ तिथियाँ:- 6,7,9,16,19,24,27,29
उपाय :-
(1) कीडे-मकौडों को तिल चावल मिश्रित कर डालते रहें.
(2) जल सेवा करें.
---------------------------------------------------------------
तुला राशि:- माह के प्रारंभ में शरीर ऊर्जावान रहेगा जिसकी बदौलत आप दुगुने उत्साह से कार्य कर पायेंगे. व्यापार व्यवसाय में आशातीत सफ़लता प्राप्त होगी. घर परिवार व जीवन साथी से बढिया तालमेल बना रहेगा, घर में शादी-विवाह योग्य सदस्यों के लिये रिश्ते की बात तय हो सकती है. 4 से 11 तारीख मध्य थोडा सचेत रहें, क्योंकि किसी वस्तु की चोरी अथवा गुम हो जाने की प्रबल संभावनाएं बन रही हैं, इसके अतिरिक्त किसी लडाई-झगडे के प्रति भी सावधान रहें. व्यर्थ ही किसी से उलझाव की स्थिति न बनने दें.

माह के उतरार्ध में शरीर में आलस्य रहेगा.दलाली कार्य से संबंधित व्यक्तियों को लाभ में कमी की वजह से मानसिक चिन्ता एवं खिन्नता का शिकार होना पडेगा. वृथा भ्रम एवं रूढियां मन पर हावी रहेंगी. आलस्य आदि का त्यागकर कार्य में मन लगायें, कार्य अवश्य पूरे हो सकेंगे.

शुभ तिथियाँ:-2,3,12,15,23,29,30

उपाय:-
(1) नित्यप्रति रूद्राभिषेक करें.
(2) त्रि मुखी रूद्राक्ष धारण करें.
---------------------------------------------------------------
वृश्चिक राशि:- माह के प्रारंभ से ही शरीर में रुग्णता रहेगी, पुराने रोग कष्ट दे सकते हैं. पुराने लिये कर्ज को चुकाने की भी चिंता रहेगी. यह समय छात्रों के लिये सफ़लता प्राप्त करने में सहयोगी रहेगा. ननिहाल पक्ष की ओर से किसी सुखद समाचार की प्राप्ति हो सकती है.

माह के उतरार्ध में भाग्य का अच्छा सहयोग मिलेगा. धार्मिक कार्यों में मन लगेगा. लेकिन जीवन साथी से किसी प्रकार की कटुता ना रखें. जीवन साथी को प्रसन्न रखेंगे तो भाग्य का प्रबल सहयोग मिलकर सभी काम बन जायेंगे. जो जातक धातु अथवा विधुत संबंधी कार्यों में संलग्न हैं, उनके लिए आगामी मास में भरपूर लाभ प्राप्ति हेतु परिस्थितियों का निर्माण हो रहा है. किसी भी तरह का निवेश आपके लिए हितकारी रहेगा.

शुभ तिथियाँ:-16,20,22,24,25,29
उपाय :-
(1) गौ सेवा करें.
(2) गले में चाँदी धारण करें.
---------------------------------------------------------------
धनु राशि:- माह की शुरुआत में तन मन अध्यधिक स्वस्थ और प्रफ़ुल्लित रहेगा. इस समय में आपको शरीर, बुद्धि और भाग्य का अदभुत सहयोग मिलेगा. यही समय है जिसमें आप अपने सभी पुराने रूके कार्यों को निपटा लें और समय का सदुपयोग करें. संतान की तरफ़ से साथ-सहयोग मिलता रहेगा. मन की प्रसन्नता भी बरकरार रहेगी.

माह के उतरार्ध में कुछ शारीरिक कष्ट रहेगा, आलस्य प्रमाद हावी रहेगा. विचारों में रूढिवादिता हावी रहेगी. अपने आसपास भ्रमपूर्ण स्थितियों को न पनपने दें ओर किसी व्यक्तिविशेष के प्रति अपने मन में चल रहे अविश्वास को समाप्त करने के पूर्ण प्रयास करें. अन्यथा आप किसी महत्वपूर्ण सम्बन्ध को खो देंगें. इस समय पर आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि छोटी छोटी बातों को बडा करके न देखें. माँस-मदिरा इत्यादि तामसिक अभक्ष्य पदार्थों का सेवन न करना ही आपके हित में रहेगा.

शुभ तिथियाँ:-11,15,17,19,26,27
उपाय :-
(1) मस्तक पर नित्य सफ़ेद चंदन का तिलक लगायें.
(2) “ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय नम:” मन्त्र का जाप करें.
 ---------------------------------------------------------------
मकर राशि:- माह के प्रारंभ से ही मन चंचल और आशिक मिजाजी में रहेगा. विपरीत लिंगियों की तरफ़ विशेष आकर्षण रहेगा. बहुत सोच समझकर कदम बढायें, व्यर्थ की बदनामी मिल सकती है. यदि मन के अपेक्षा बुद्धि से काम लेंगे तो पुराने चले आ रहे प्रेम प्रसंग को मंजिल हासिल हो सकती है. यह समय भ्रमण मनोरंजन, आमोद प्रमोद और भोग विलास की सामग्रियां पर खर्च करने में ही व्यतीत होगा. पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें.

माह का उतरार्ध काफ़ी अहम साबित होगा. यदि पूर्व में की गई अपनी गलतियों और लापरवाही को आपने नहीं दोहराया तो आप आगे आने वाले अच्छे समय में इसका निश्चित ही फ़ायदा उठाने में कामयाब रहेंगे. प्रेम प्रसंग, व्यापार कारोबार में सफ़लता के योग हैं. जीवन साथी से तालमेल मधुर बना रहेगा. जोखिम लेने की प्रवृति पर थोडा संयम रखें. 19 से 27 तारीख मध्य शेयर बाजार में किसी प्रकार का अल्पकालीक निवेश करने से यथासंभव बचें अन्यथा नुक्सान होना निश्चित जानिए.

शुभ तिथियाँ:-8,16,19,20,24,27,28

उपाय :-
(1) दुग्ध, शरबत इत्यादि किसी पेय पदार्थ का दान करते रहे. 
(2) पक्षियों को सफ़ेद ज्वार डालें.
 ---------------------------------------------------------------
कुंभ राशि:- माह का पूर्वार्ध आपके लिए काफ़ी भागदौड वाला रहेगा लेकिन इस भागदौड का समुचित फ़ल आपको प्राप्त होगा. यह समय ज्ञान प्राप्ति में विशेष सहायक रहेगा एवं विद्यार्थियों को मेहनत अनूरूप अच्छी सफ़लता प्राप्त होने के योग हैं. जो जातक बहुत लम्बी समयावधि से किसी रोगादि का सामना कर रहे हैं, उनके लिए यह समय थोडा कष्टमय वातावरण का निर्माण कर सकता है. अपने खान पान व डाक्टर की सलाह पर अवश्य ध्यान दे.

माह का उतरार्ध भ्रमण-मनोरंजनपूर्वक एवं मित्रादि सहित शांति पूर्वक व्यतीत होगा. प्रेम प्रसंगों में सफ़लता मिलेगी. किसी विशेष महत्वपूर्ण कार्य हेतु ऋणादि लेने की आवश्यकता पड सकती है. सेहत का विशेष तौर पर ख्याल रखें.

शुभ तिथियाँ:-2,7,15,16,19,23
उपाय :-
(1) सुस्वादु एवं स्वास्थ्यवर्धक खान पान रखें.
(2) एकादश मुखी रूद्राक्ष धारण करें.
 ---------------------------------------------------------------
मीन राशि:- माह के पूर्वार्ध में घर परिवार में कोई शुभ प्रसंग का अवसर आयेगा. आपकी वाणी में काफ़ी ओजस्विता रहेगी जिससे आपके सभी कार्य सहज रूप से बन जायेंगे. धनागमन की अच्छी संभावना है. कार्य रोजगार उत्तम रहेगा. माता के स्वास्थ्य में गिरावट हो सकती है. किसी मित्र की तरफ़ से कोई अशुभ समाचार प्राप्त हो सकता है.

माह का उतरार्ध काफ़ी भागदौड से पूर्ण एवं थका देने वाला रहेगा. क्रोध और चिडचिडापन बढने वाला है, जिस पर संयमपूर्वक काबू रखना आवश्यक है. बुद्धि के उपयोग से सभी कार्य पूर्ण हो सकेंगे. अपना संतुलन ना खोंये. संतान पक्ष की ओर से सुखद समाचार मिलेगा. विद्यार्थियों के लिये समय उत्तम है बशर्तें संयम से मेहनत करते रहें.

शुभ तिथियाँ:-4,21,23,24,25,30
उपाय :-
(1) श्री भैरव चालीसा का नित्य पाठ करें.
(2) शनिवार का उपवास रखें.
----------------------------------------------------------------------------------