मासिक राशिफल------अगस्त 2010

मेष राशि:- आपके लिए यह माह पूर्णत: अनुकूल रहेगा। प्रारम्भ में ही घर-परिवार में उल्लासमय वातावरण होगा एवं परिवार में मेहमान इत्यादि का आगमन होगा। यदि किसी प्रकार की स्थायी सम्पत्ति खरीदने की योजना बन रही हो तो उसके लिए यह समय पूर्णत: उपयुक्त है। किसी से प्रेम प्रसंग चल रहा हो तो उसके प्रति थोडी सावधानी रखनी होगी अन्यथा मानहानि का भय है। जो लोग फुटकर या रिटेल कारोबार कर रहे हैं ,विशेषतय: अनाज,लोहा,सीमेंट के क्षेत्र अथवा निर्माण कार्यो के क्षेत्र से जुड़े हैं उनके लिए ये समय विशेष रूप से लाभकारी रहेगा। आभूषण,वस्त्र,वाहन,मैडिकल एवं आयात-निर्यात के क्षेत्र से जुडे लोगों के लिए समय किंचित हानि परेशानी वाला है। किन्तु मास के अन्तिम दिनों में किसी चिरस्थायी लाभ की आशा मन में व्याप्त रहेगी। दिनाँक 23 से 29 के मध्य किसी चिर परिचित व्यक्ति से शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। महिला वर्ग यदि कुछ नया कार्य आरम्भ करना चाहती हों तो उनके लिए ये सर्वोतम समय है ।
शुभ तिथियाँ:-1,10,14,15,16,19,30
अशुभ तिथियाँ:-:-9,16,18,20,26,29
उपाए:-मांस-मदिरा से परहेज रखें, बृ्हस्पतिवार को मंदिर में चने की दाल तथा गुड चढाएं। ॐ सर्वेश्वराय नम: मन्त्र का नित्य जाप करें।
--------------------------------------------------------------
वृ्ष राशि:- इस माह आपको अचानक कोई ऎसा समाचार सुनने को मिलेगा कि जिससे आपकी चिन्ता बढ जाएगी। माह का प्रथमार्द्ध शारीरिक कष्ट एवं दैनिक कार्यों में व्यवधान उपस्थित करेगा। नए व्यापारिक अनुबन्धों में भी टालमटोल की स्थिति बनती रहेगी। जो लोग नौकरीपेशा हैं, उन्हे उच्चाधिकारियों का कोप भोजन बनना पडेगा। निज अथवा किसी अन्य किसी पारिवरिक सदस्य की रोग बीमारी को लेकर मन परेशान रहेगा। माह का द्वितीयार्द्ध आपकी पहले से चली आ रही कईं समस्यायों, परेशानियों का समाधान लेकर उपस्थित होगा। कार्य-व्यवसाय में स्थिति निरन्तर सुदृ्ड होती चली जाएगी। तनाव तथा मन की उदासीनता से मुक्ति प्राप्त हो, घर-परिवार में सुख शान्ती का वास होगा। 19 से 27 तारीख के मध्य समय विशेष रूप से लाभकारी रहेगा।
शुभ तिथियाँ:-10,18,19,20,25,26,27
अशुभ तिथियाँ:-2,3,4,11,12,16,30,31
उपाय:-अमावस्या के दिन सफेद वस्त्र में चावल तथा एक शंख बाँधकर मन्दिर में चढा दें। नित्य प्रात: ॐ स्त्रीं घृ्णि: सूर्य आदित्य: श्रीं मन्त्रोच्चारण सहित सूर्यदेव को अर्घ्य दें।
--------------------------------------------------------------
मिथुन राशि:- सर्वप्रथम आपके लिए एक सलाह है कि घर से बाहर सुख खोजने की अपेक्षा निज परिवार की ओर ध्यान देंना ही आपके लिए हितकर रहेगा अन्यथा आपके लिए वही स्थिति होने वाली है कि "न खुदा ही मिला न विसाले सनम। न इधर के रहे न उधर के हम"। यदि उपरोक्त लिखी बात को गाँठ बाँध लेते हैं तो फिर आपके लिए यह माह सामान्य से कहीं अधिक अनुकूल रहने वाला है। यात्रा-भ्रमण का सुअवसर प्राप्त होगा। पारिवारिक जन की प्रगति के शुभ संदेश प्राप्त होंगें। आर्थिक स्थिति में उतरोत्तर वृद्धि होगी। 16 तारीख के पश्चात घर परिवार की किसी वस्तु अथवा मनोरंजन के साधनों पर व्यय होगा। भूमी अथवा वाहन से जुडे किसी मसले का अनायास हल निकल आएगा।
शुभ तिथियां:-1,2,5,14,15,16,27,30
अशुभ तिथियां:-6,7,8,18,21,22,23
उपाए:-नित्य संध्या वेला में श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। भगवान सूर्यदेव को जलार्पण करें। ॐ नमो भगवते सकलगुणात्मशक्ति युक्ताय भूमिपुत्राय योगपीठात्मने नम: मन्त्र का जाप करें।
--------------------------------------------------------------
कर्क राशि:- आपके लिए यह माह व्यवसाय में वृद्धि के लिए विशेष लाभकारी रहेगा। जो लोग नौकरी पेशा हैं, उन्हे भी छिटपुट लाभ के अवसर मिलेंगे। किसी अन्य माध्यम से धन मिलने की आशा रहेगी । महीने के उत्तरार्ध में एक साथ कई कामों को आरंभ करने की उतावली रहेगी । यह भी सम्भव है कि लाभ की लालसा में कुछ हानिकारक कार्य भी आपके द्वारा हो सकते हैं। थोडा संभलकर चलने की आवश्यकता है। मास के अंतिम भाग विशेष रूप से 26 से 30 तारीख के मध्य मन पूर्णत: शांत रहेगा क्योंकि इसी अवधि में आपके व्यवहार सम्बन्धी समस्याओं में कमी आएगी और आप अपनी कार्य दक्षता के आधार पर किसी बड़ी समस्या को हल कर लेंगे। पिछले मास की तरह ही इस महीने भी भागदौड लगी रहेगी तथा यात्राएं अनावश्यक व्यय का कारण बनती रहेंगी।
शुभ तारीखें:-2,8,18,24,27,28
अशुभ तारीखें:-3,7,19,21,26,31
उपाय:- मंगलवार को उपवास रखें। शरीर पर सोना अवश्य धारण करें। नित्य प्रात: ॐ श्रीं श्रीं श्रीं परमाम सिद्धिं श्रीं श्रीं श्रीं मन्त्र का जाप करें।
---------------------------------------------------------------
सिँह राशि:- परिवार में किसी की अस्वस्थता से मन चिन्तित होगा। महत्वपूर्ण क्षेत्रो में चल रहे प्रयत्न सार्थक होंगे। राजनैतिक सक्रीयता बढ़ेगी। शासन-सत्ता के व्यक्तियों से लाभ के अवसर प्राप्त होगा। तारीख 3,8,13,18 को हड़बड़ी में कोई कार्य न करें। अवयस्कता पूर्ण व्यवहार पर नियंत्रण करें। 6,15,20,22,24 तारीखों को परिजनों के स्नेह से सुखद अनुभूति होगी। पारिवारिक वातावरण सौहार्दपूर्ण रहेगा,लंबी दूरी के यात्रा की योजना बन सकती है। भौतिक सुख-साधनों में व्यय की अधिकता रहेगी। जो लोग धातु, बैंकिंग एवं विधुत संबंधी कार्यों में संलग्न हैं,उनके लिए आगामी मास में भरपूर लाभ प्राप्ति हेतु परिस्थितियों का निर्माण हो रहा है।
शुभ तिथियाँ:-1,10,14,15,16,19,30
अशुभ तिथियाँ:-:-9,16,18,20,26,29
उपाए:-मांस-मदिरा से परहेज रखें,बृ्हस्पतिवार को मंदिर में चने की दाल तथा गुड चढाएं। गले में चाँदी धारण करे। ॐ त्रिलोचनायै विद्युतप्रभायै नम: मन्त्र का यथासंख्या जाप करें।
--------------------------------------------------------------
कन्या राशि:-  इस माह कुछ जानी अनजानी कठिनाईयाँ मानसिक तनाव उत्पन कर सकती हैं। मासार्द्ध में अकस्मात दूर की यात्रा का संयोग निर्मित हो तो उसका अवश्य उपयोग करें---हितकारी रहेगा। आर्थिक दृ्ष्टिकोण से समय आपके लिए पूरी तरह से शुभ रहेगा । मासांत में आदर्शवाद की ओर कुछ विशेष झुकाव निर्मित होगा। आप अपने ही किन्ही काल्पनिक विचारों में रमें रहेंगें। कार्यक्षेत्र में अनावश्यक कलह से बचें। तामसिक पदार्थों का भूलकर भी सेवन न करें। मनोरंजन के साधनों पर अत्यधिक व्यय करना पडेगा। सुख के साधनों में वृद्धि होगी। तारीख 6,8,15,18 को हड़बड़ी में न तो कोई कार्य करें और न ही किसी प्रकार का कोई महत्वपूर्ण निर्णय लें।
शुभ तिथियां:-1,2,5,14,16,27,30,31
अशुभ तिथियां:-6,7,8,18,21,22,23
उपाए:-प्रतिदिन घर से प्रस्थान करते समय मन में ॐ सर्व पितृ्भ्यो नम: मन्त्र का उच्चारण करें। शुक्रवार के दिन दही, दूध, चावल इत्यादि किसी भी सफेद रंग के खाद्य पदार्थ का दान करते रहें।
--------------------------------------------------------------
तुला राशि:- इस माह का पूर्वार्ध आपके लिए अच्छा है, परन्तु उत्तरार्ध में किसी रोग भय का सामना करना पडेगा। उदर पीडा,शिरोव्यथा,अपच इत्यादि व्याधी से कष्ट संभव है। मित्रों का विशेष सहयोग प्राप्त होगा। किसी नवीन कार्य की योजना फलीभूत हो सकती है। पराक्रम में वृ्द्धि होगी,भाग-दौड से लाभ मिलेगा। जो जातक विदेश जाने का प्रयास कर रहें हैं उन्हे अपने प्रयत्नों में सफलता प्राप्त होगी। प्रथम पक्ष में विशेष रूप से 1 से 16 तक धनागमन के नए स्त्रोत उत्पन्न होंगे,मन में शुभ विचारों का उदय होगा । जो लोग नौकरीपेशा हैं तथा नौकरी में परिवर्तन की योजना बना रहे हैं, वो लोग इस माह किसी भी प्रकार परिवर्तन से यथासंभव बचने का प्रयास करें, अन्यथा लाभ की अपेक्षा कहीं अधिक परेशानियों का सामना करना पड सकता है। तारीख 17,19,24 को धनहानि,चोरी,दुर्घटना के प्रति सतर्क रहें।
शुभ तिथियां:-1,2,5,14,15,16,27,30
अशुभ तिथियां:-6,7,8,18,21,22,23
उपाय:- ॐ नम: गणेश विघ्नेश गिरिजा नंदन प्रभु मम विध्न विनाशाय गणाधिपतये नम: मंत्र का जाप करें। अपने पूजास्थल में एक शंख अवश्य रखें।
-----------------------------------------------------------
वृ्श्चिक राशि:- आपके लिए यह माह मिश्रित फलदायी रहने वाला है। भावावेश में किये गये किसी कार्य से कष्ट संभव। 8,14,16,26 तारीखों को विशेष रूप से ध्यान रखें---हानि, परेशानी का योग है। परिजनों की बातो को दिल पर मत लें। व्यावसायिक व्यस्तता से निजी जरूरतों के प्रति समयाभाव आड़े आएगा। महीने के उत्तरार्द्ध में अच्छी अभिलाषाएं मन में जागृत होंगी। मित्रों से निकटता व किन्ही सार्वजनिक कार्यों में सक्रियता बढ़ेगी । शिक्षार्थियो को ग्रहों की अनुकूलता का लाभ प्राप्त होगा। किसी गृ्होपयोगी भौतिक सामग्री पर धन का व्यय होगा। घर में किसी अतिथि के आगमन से मन प्रसन्न रहेगा । 22 तारीख के पश्चात लघु अवधि के किसी भी प्रकार के शेयर मार्कीट निवेश से बचें अन्यथा लाभ की अपेक्षा जोरदार हानि का सामना करना पड जाएगा। मासांत में किसी सार्वजनिक समारोह में शामिल होने का अवसर प्राप्त होगा ।
शुभ तिथियाँ:- 2,7,10,11,15,20,22
अशुभ तिथियाँ:- 4,8,14,16,26,30,31
उपाय:- घर में कोई जंग लगा धातु का सामान न रखें। गाय की सेवा करें तथा बुधवार के दिन हरी वस्तु का दान करते रहें। ॐ तस्मै चराचरात्मने नम: मन्त्र का जाप करें।
------------------------------------------------------------
धनु राशि:- नौकरी,कार्यव्यवसाय का वातावरण सुखद रहेगा,अच्छी प्राप्ति का योग है। महीने के पूर्वार्द्ध में आकस्मिक किसी सुखद समाचार से मन प्रसन्न होगा । बहुत दिनों से अवरोधित महत्वपूर्ण कार्य हल होने के आसार बनेंगे । 19 से 25 तारीख तक समय थोडा चिन्ता, परेशानी उत्पन करने वाला है , छोटे-मोटे रोग अथवा चोट की आशंका है। अत: यात्रा में सावधानी बरतें। अपयश व लान्छन से बचें। किसी महत्वपूर्ण कार्य में अवरोध से मन चिन्तित होगा । किसी को धन बहुत ही सोच विचार कर दें अन्यथा वापिस मिलने में संदेह है। किसी भी प्रकार का निवेश माह के प्रथमार्द्ध में करना ही लाभकारी रहेगा । 25 तारीख के पश्चात समय ज्यादा अच्छा रहेगा, रहन-सहन के वातावरण में सम्पन्नता झलकेगी । स्वर्णाभूषण अथवा मूल्यवान उपकरण इत्यादि पर व्यय करना पडेगा । किसी गंभीर कार्य योजना पर अमल होगा और सबके साथ मिलकर काम करने की आपकी लालसा भी सकारात्मक रूप लाएगी ।
शुभ तिथियाँ:- 5,9,11,15,16,18,27
अशुभ तिथियाँ:- 2,6,19,20,22,23,24,25
उपाय:- ॐ नारायणाय सुरसिंहासनाय नम: मंत्र का नित्य जाप करें। अपने आराध्यदेव को नित्यप्रात: मिश्री का भोग जरूर लगाएं।
-------------------------------------------------------------
मकर राशि:- जो जातक अपने स्वयं के कार्यव्यवसाय में संलग्न हैं, उनके लिए यह माह बहुत ही सुगम और समृद्धिशाली सिद्ध होने वाला है। धन की आवक विभिन्न स्रोतों से होगी। नवम्बर मध्य तक ऐसा लाभकारी गोचर इस राशि वालों को बार बार नहीं मिल पाएगा। यात्राओं और अधिकारों का अच्छा संयोग बन रहा है। महिलाओं के लिए यह मास काफी कुछ संतुलन और सहयोग से अच्छे फल देने में सहायक होगा। विशेष रूप से शैक्षणिक कार्यों से जुडी महिलाओं के लिए अचानक लाभ प्रदान करने वाली परिस्थितियों का निर्माण होगा। भोग-विलास के साधनों पर अच्छा खासा व्यय करना पडेगा। कुल मिलाकर देखा जाए तो यह मास आपके लिए हर्षोल्लास से व्यतीत होगा। शेयर बाजार में निवेश इच्छुक व्यक्तियों के लिए उर्जा, कोयला,बैंकिंग,ट्रांसपोर्टेशन इत्यादि में निवेश करना हितकारी रहेगा,जिसका भरपूर लाभ उन्हे अक्तूबर मास में देखने को मिलेगा।
शुभ तिथियां:-3,6,9,10,11,17,21,24,26
अशुभ तिथियां:-8,14,19,27
उपाय:-नित्य अपने आराध्यदेव को लाल पुष्प अर्पित करें। सोते समय किसी बर्तन में रात को सिरहाने जल भरकर रखें सुबह उठकर किसी पौधे में डाल दिया करें। ॐ नम: भद्राय क्लीं ह्रीं ऎं ॐ मन्त्र का जाप करें।
-------------------------------------------------------------
कुम्भ राशि:- इस मास के मध्य भाग तक आपकी राशी पर अशुद्ध गोचर प्रभाव कायम रहेगा। जिम्मेदारी बढ़ने से माह की शुरुआत कुछ आर्थिक संकटों से भरी होगी। पहले 15 दिनों में भविष्य निर्माण संबंधी योजनाएं स्थगित होंगी। साझे सौदे के लिए भी अभी धन खर्च करना उचित नहीं होगा। दूसरे सप्ताह के अंतिम दिनों में रोजगार प्राप्त जातकों को धन प्राप्ति अथवा पदोन्नति के प्रसंग पैदा होंगे। महीने के प्रथम अर्द्ध में परिवार में झगड़ा आपकी जिद करने की आदत के कारण हो सकता है। अत: वाणी पर और व्यवहार में नियंत्रण अवश्य रखें। नए दोस्तों से संबंध सोच-समझकर बनायें। 11 से 15 तारीख के मध्य पेट अथवा पीठ संबंधी किसी रोग, चोट, व्याधी का सामना करना पड सकता है। माह का उत्तरार्द्ध आपके लिए लाभकारी परिस्थितियों का निर्माणकर्ता सिद्ध होगा । कार्यव्यवसाय में स्थिरता एवं धनादि का अच्छा लाभ मिलने लगेगा। यदि आप नौकरीपेशा हैं तो नियोक्‍ता एवं उच्‍चाधिकारियों से सम्बंधों में सुधार होगा ।
शुभ दिन:-6,13,19,20,26
अशुभ दिन:-4,11,13,14,15,22,28,
उपाय:- किसी भिखारी को शनिवार के दिन चमडे की जूती/चप्पल दान करें। ॐ श्रीं ह्रीं हरिप्रियाय ह्रीं श्रीं ॐ मन्त्र का जाप करें। हरे तथा नीले रंग के वस्त्र न धारण करें।
-----------------------------------------------------------
मीन राशि:- थोडा अधिक प्रयास करें तो आपके लिए इस मास लाभ के अवसर पहले से कहीं बेहतर होंने वाले हैं। किसी महत्वपूर्ण कार्य में व्यस्त रहेंगे। विगत में चली आ रही अनेक समस्याओ के समाधान के अवसर मिलेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से सम्पर्क होगा जो आगे चलकर भविष्य में आपके लिये लाभदायक सिद्ध होने वाला है। नौकरी में बदलाव की योजना पर विचार कर सकते हैं। 22 से 26 तारीख तक स्वभाव में चिडचिडापन, क्रोध की मात्रा बढी रहेगी। संतान सम्बन्धी चिन्ता व पारिवारिक मतभेदों का सामना करना पडेगा। उत्तरार्द्ध भाग में व्यवसाय में संघर्ष के बाद आय के स्रोत बढ़ेंगे। भूमि सम्बन्धी कार्यो से लाभ मिलेगा। रुका या उधार दिया धन वसूल होगा। व्यवसाय में उन्नति के अवसर मिलेंगे। माह के तीसरे सप्ताह किसी सम्पन्न सहयोगी से लाभ अथवा नए मित्र के आगमन का हर्ष प्राप्त होगा।
शुभ तिथियां:-6,10,12,26,28,30,31
अशुभ तिथियां:- 3, 9, 16, 17, 18

उपाय:-नित्य श्री शिव लीलामृ्त स्त्रोत्र का पाठ करें। अपने पास थोडी सी चांदी एवं केसर अवश्य रखें। ॐ परब्रह्म परमात्मने नम: मन्त्र का यथासंभव संख्या में जाप करते रहें।
-----------------------------------------------------------
** यह राशिफल जन्मकालीन चन्द्र राशि पर आधारित है