मासिक भविष्यफल--------(जुलाई-2009)

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मेष राशी:-जिम्मेदारी बढ़ने से माह की शुरुआत कुछ आर्थिक समस्यायों से भरी होगी। माह के प्रथम 15 दिनों में भविष्य निर्माण संबंधी योजनाएं स्थगित होंगी। साझे सौदे के लिए भी अभी धन खर्च करना उचित नहीं होगा। दूसरे सप्ताह के अंतिम दिनों में रोजगार प्राप्त जातकों को धन प्राप्ति अथवा पदोन्नति के प्रसंग पैदा होंगे।महीने के प्रथम अर्द्ध में परिवार में झगड़ा आपकी जिद करने की आदत के कारण हो सकता है। अत: वाणी पर और व्यवहार में नियंत्रण अवश्य रखें। नए दोस्तों से संबंध सोच-समझकर बनायें। माह के उत्तरार्द्ध में संपत्ति का लाभ होगा।भौतिक सुख-सुविधाओं पर धन का व्यय होगा।किन्तु विद्यार्थियों व महिलाओं को कुछ भ्रम, भ्रान्ति व चिन्ताओं का सामना करना पडेगा।
शुभ तिथियाँ:-2,3,11,14,18,19,31
अशुभ तिथियाँ:-6,7,12,20,21,25
उपाय:-नित्य देवदर्शन हेतु मंदिर अवश्य जाऎं। शुक्रवार अपने आराध्यदेव के चरणों में कर्पूर(camphor) जलाएं।
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
वृष राशी:-इस माह समय का दौर कुछ इस प्रकार का रहेगा कि जिस काम की आप दूसरों से अपेक्षा रखते हैं वही अपेक्षा आपके ऊपर भी लोग रख रहे हैं। यह सब सन्तुलन बैठाने के लिए आपको महीने के पूर्वार्द्ध् में कुछ मानसिक हलचल या दिमागी परेशानी का सामना करना होगा। किन्तु जो जातक फुटकर या रिटेल कारोबार कर रहे हैं। अनाज, लोहा, सीमेंट के क्षेत्र अथवा निर्माण कार्यो के क्षेत्र से जुड़े कार्य कर रहे हैं उनके लिए समय लाभकारी रहेगा।शुभ मांगलिक कार्यक्रमों का आयोजन,समवयस्क लोगों से मित्रता एवं मेल मुलाकात का हर्ष भी प्राप्त होगा। मास के अन्तिम दिनों में किसी चिरस्थायी लाभ की आशा मन में व्याप्त रहेगी।पेट सबंधी किसी रोग-व्याधी के प्रति सचेत रहें।
 शुभ तिथियाँ:-1,10,14,15,19,30
अशुभ तिथियाँ:-9,16,18,20,26,29
उपाए:- मांस-मदिरा से परहेज रखें, बृ्हस्पतिवार को मंदिर में चने की दाल तथा गुड चढाएं।
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मिथुन राशी:-व्‍यावसायिक दृष्टिकोण से यह माह आपके लिए मिश्रित फलदायी रहेगा। आप व्‍यावसायिक विस्‍तार की योजना बनाकर नए लोगों को जोड़ना चाहते हैं जिनमें से कुछ आपके साथ जुड़ेंगे और उनका कार्य–संपादन आपको ऊंचे व्‍यावसायिक लेन–देन की ओर उन्‍मुख कर देगा। यदि आप नौकरीपेशा हैं तो आपसे जुड़ने वाले सभी लोगों का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा।मान- प्रतिष्‍ठा में वृद्धि होगी और पद संबंधी कोई नवीन जिम्‍मेदारियां आपको सौंपी जा सकती है।इलैक्‍टानिंक वस्‍तुएं तथा अन्य सुखोपभोग की सामग्री पर व्यय करना पडेगा। साथ ही भूमि के क्रय–विक्रय से जुड़े मामलों में भी लाभ के योग हैं।
शुभ तिथियाँ:-1,6,11,16,19,25,27
अशुभ तिथियाँ:-8,10,18,22,26,31
उपाय:-ॐ नारायणाय सुरसिंहासनाय नम  मंत्र का जाप करें।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------- 
कर्क राशी:-इस महीने का प्रथमार्द्ध आपको बहुत सावधानी से व्यतीत करना होगा अन्‍यथा बहुत कीमती किसी संबंध को आप खो देंगे। आपकी स्‍वयं की कोई गलती आपके लिए तकलीफदेह/हानि/परेशानी का कारण बन जाएगी। आपकी बातों से कोई मन ही मन परेशान हो सकता है। आपको चाहिए कि व्‍यवसाय की बातें व्‍यक्तिगत संबंधों में न लाएं। जीवनसाथी से भी बहुत कहासुनी हो सकती है।आप अपनी ही कार्यप्रणाली के जाल में उलझने लगेंगे और काम इकट्ठा होता जाएगा।किन्तु 16 जुलाई के पश्चात स्थितियों में परिवर्तन देखने को मिलेगा।वाणी का कौशल आपको पुरानी स्थितियों से उबार कर बाहर ले आएगा और आप नए संबंधों की मजबूत आधारशिला पर व्‍यवसाय को आगे बढ़ाएंगे। 22 से 27 जुलाई के मध्य का समय विशेष लाभदायक सिद्ध होगा।
शुभ तिथियाँ:- 4,16,17,22,24,25,27
अशुभ तिथियाँ:- 3,6,7,8,10,13,14,20,31
उपाय:- माता-पिता के नित्य प्रात: चरण स्पर्श करें तथा गाय की सेवा करें।
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सिंह राशी:-आपके लिए यह माह विचित्र परिस्थितियों का निर्माणकर्ता सिद्ध होने जा रहा है। जहाँ एक ओर आप जीवन क्षेत्रों में संघर्ष करते नजर आएंगे,वहीं दूसरी तरफ व्‍यापार–व्‍यवसाय में भरपूर वृद्धि के योग बन रहे हैं। आपकी प्रतिष्‍ठा पराकाष्‍ठा पर होगी और बहुत सारे लोग आपसे मिलने के लिए उत्‍सुक होंगे। अति उत्साह इस माह हेतु आपके लिए मुख्‍य अस्‍त्र होगा और वही आपकी सफलता के रास्‍ते तय करेगा। कलात्‍मक एवं सृ्जनात्मक कार्यों में बहुत रुचि लेंगे। शुक्र,चन्द्रमा तथा मंगल इन तीन ग्रहों का रोहिणी नक्षत्र में योग होने के फलस्वरूप 19-20 जुलाई के दिन आपके लिए विशेष महत्वपूर्ण सिद्ध होंगे। आगामी भविष्य हेतु कोई लाभदायक स्थिति का निर्मित होने लगेगी। नौकरी में पदवृद्धि अथवा व्‍यापारिक लाभ बढ़ने के पूर्ण योग है।
शुभ तिथियाँ:-6,13,17,19,20,23,25,30,31
अशुभ तिथियाँ:-3,8,11,16,26,28
उपाय:- मंगलवार श्री हनुमान जी को सिन्दूर तथा लाल पुष्प चढाएं।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कन्या राशी:- व्यवसायिक दृ्ष्टि से इस माह व्यस्तता बनी रहेगी। नए सम्पर्कों को बढाने में आप व्यस्त रहेंगे। मित्र,बन्धु-बान्धवों एवं कार्यक्षेत्र में यश मान, प्रतिष्टा प्राप्त होगी। यदि किसी उच्च पद हैं तो आपकी नीतियों को सराहा जाएगा। पारिवारिक वातावरण हर्षमय व्यतीत होगा। परिवारजनों के प्रति व्यवहार विनम्र रहेगा। धार्मिक कार्यों में रूचि बढेगी जिससे सामाजिक मान-प्रतिष्ठा में बढोतरी होगी। माह मध्य में जनसंपर्क और मेल-मिलाप के कारण धन का अधिक व्यय करना पडेगा। कुल मिलाकर इस माह आर्थिक स्थिति से आप संतुष्टि अनुभव करेंगे।
शुभ तिथियाँ:-7,8,9,10,11,16,19,23,27,31
अशुभ तिथियाँ:-4,13,17,24,25
उपाय:- प्रत्येक सोमवार दूध का दान करें।
 --------------------------------------------------------------------------------------------------------------
तुला राशी:-इस समय गुरू की पूर्ण दृष्टि आपकी राशि पर है जोकि इस माह में संभावित परेशानियों को काफी हद तक नियंत्रित कर रही है।किन्तु 12 से 20 जुलाई के मध्य आफिस या घर के वातावरण में आपसी कलह या मतभेद की स्थिति निर्मित हो सकती है। मन में क्रोध, शरीर में पीड़ा और मानसिक अशान्ति रहेगी । खान-पान में लापरवाही न बरतें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। दशम भाव का सूर्य-केतु योग कार्यालय में अधिकारियों से मतभेद पैदा कर सकता है।कहीं से किसी दुखद समाचार की प्राप्ति के कारण मन व्यथित रहेगा।23 जुलाई के पश्चात आपके राशीपति शुक्र ग्रह आपको कलह और मन की व्यथा के बावजूद सुख और वस्त्र लाभ का योग बना रहे हैं। आपके धन की वृद्धि होगी और कार्यों में सफलता मिलने लगेगी।
शुभ तिथियाँ:-2,5,6,21,27,28,30
अशुभ तिथियाँ:-12,13,15,16,17,20
उपाय:-पक्षियों को बाजरा डालें।
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
वृश्चिक राशी:-यह महीना अशुद्ध गोचर के कारण पूर्वार्ध में स्वास्थ्य को प्रभावित करेगा । अजीर्ण की शिकायत रहेगी, व्यर्थ की दौड़भाग बढ़ जाने से अथवा अनावश्यक कार्यो के दबाव से हाथ पैरों की पीड़ा भी व्यथित करेगी। यात्रा भ्रमण इत्यादि में सावधानी आवश्यक है। किसी अति महत्वपूर्ण योजना के किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच सकने से मन में खिन्नता रहेगी।
महीने के मध्य में सूर्यदेव के राशी परिवर्तन के परिणामस्वरूप विचारों में किन्चित बदलाव आने लगेगा। शारीरिक कष्टों की निवृत्ति के उपाय कारगर होंगे। कुछ संतोषजनक धन लाभ होने से आर्थिक क्षेत्र में भी सुख शांति कायम रहेगी । मासान्त में ज्ञान विज्ञान अथवा किसी महत्वपूर्ण विषय पर आपकी गतिविधियाँ नियंत्रित हो जाएंगी।
शुभ तिथियां:-2,7,12,17,21,28,31
अशुभ तिथियां:-4,15,16,22,26,29
उपाए:-अपने आराध्यदेव के चरणों में नित्य 1 पुष्प अर्पित करें
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
धनु राशी:- इस महीने के पूर्वार्ध में अधिकांशत: शरीर में  आलस्य और प्रमाद ही हावी रहेगा । इस दौरान या तो आप यात्रा में रहेंगे या कहीं पर अवकाश लेकर स्वास्थ्य लाभ करेंगे। काम काज के दायरे संकुचित हो सकते हैं। सामाजिक जीवन में भी किसी शुभचिन्तक से बिगाड की संभावनाएं बन रही हैं। व्यावसायिक अनुबंधों को किन्ही व्यक्तिगत कारणों से ठुकराना पड़ सकता है। अधीनस्थ कर्मचारियों एवं घर के नौकर चाकरों के प्रति व्यवहार में परिवर्तन देखने को मिलेगा, क्रोध की मात्रा बढेगी। महीने के मध्य भाग से कुछ राहत मिलनी आरम्भ होगी फिर भी आय की अपेक्षा व्यय थोडा अधिक रहेगा। किसी अचल संपत्ति के क्रय-विक्रय का विचार भी मन में आ सकता है। मासान्त तक किसी सुखद घटना के फलस्वरूप आप अपने संघर्ष को विस्मृत कर लेंगे।
शुभ तिथियाँ:-4,5,7,9,26,27,29,30
अशुभ तिथियाँ:-3,8,12,13,16,18,21,22
उपाय:-शरीर पर ताँबा धारण करें ।
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मकर राशी:- इस मास का पूर्वार्ध अनेक प्रकार की जटिल समस्याओं को दूर करेगा। व्यवसाय व्यापार में नए वैकल्पिक स्त्रोत पैदा होंगे। धनी मानी एवं प्रबुद्ध लोगों से सांझे सहयोग की बात होगी। घर में किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति का आगमन होगा। विवाहोत्सव या मंगल कार्य आयोजित होगा। कहीं दूरस्थ स्थान में चल अचल सम्पत्ति का नियोजन या निर्माण कार्य भी आरंम्भ हो सकता है। 18 से 23 जुलाई के मध्य वाहन संचालन या मशीनरी के कार्यो को निपटाते समय विशेष सावधानी बरतें। कुछ समय के लिए वाद-विवाद और जोखिम भरे कार्यो से दूर रहें। कामकाज में यदि व्यवधान आएं तो तत्काल उसकी वैकल्पिक व्यवस्था पर ध्यान दें। मासांत तक पुरानी चली आ रही समस्यायों का निवारण होने लगेगा तथा आगामी भविष्य हेतु किसी नवीन योजना के विचार बनने लगेंगे। यथासंभव ऋण लेने-देने से बचें।
शुभ तिथियां:-6,13,18,23,27,28
अशुभ तिथियां:-8,10,14,16,22,24,26
उपाए:- किसी धार्मिक स्थल पर प्रत्येक बुधवार कोई भी एक फल चढाते रहें।
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कुम्भ राशी:- आपके लिए यह महीना एक ओर जहाँ अत्यन्त उत्साहवर्धक तथा लाभदायक परिस्थितियों से भरपूर रहेगा वहीं  दूसरी ओर कुछ असमर्थता और आर्थिक संकोच का भी सामना करना पड़ेगा। मित्र अथवा बन्धु-बान्धवों की सहायता से किया गया आयोजन सफल रहेगा। काफी मेहनत के बाद भी नाममात्र का सुयश मिलेगा। यही स्थिति व्यवसाय और आजीविका के मामले में भी रहेगी। काफी संघर्ष और दौड़ भाग के बाद पैर जमाने की जगह मिल जाएगी। महीने के उत्तरार्ध में एकाएक ही परिश्रम और पुरूषार्थ सिद्ध होंने लगेंगे। अतीत में किए गए शुभ कार्यो का हर्षवर्धक समाचार मिलेगा। उत्सव समारोह और मंगल कार्यो में आवाजाही बढ़ेगी। नए या पुराने मित्रों से परिचय व प्रगाढ़ता कायम होगी।
शुभ तिथियां:-1,3,11,14,22,28,30,31
अशुभ तिथियां:- 4,9,15,19,20,23,24
उपाय:-रविवार के दिन किसी गरीब व्यक्ति को भोजन करवाएं।
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मीन राशी:- मीन राशी के जातकों  के लिए माह का प्रथम अर्द्ध विशेष लाभकारी है । शिक्षा प्रतियोगिता की दिशा में चल रहा प्रयास सफल होगा। शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगें और स्वास्थ्य में सुधार भी होगा। ख्याति लाभ के अवसर प्राप्त होगें। शुभ विचार उत्पन्न होने से मन प्रसन्न रहेगा। धन आगमन का कोई नया मार्ग बनेगा। उपहार व सम्मान का लाभ मिलेगा। कार्यक्षेत्र में अनावश्यक कलह से बचें। तामसिक पदार्थों का भूलकर भी सेवन न करें। मनोरंजन के साधनों पर अत्यधिक व्यय करना पडेगा। सुख के साधनों में वृद्धि होगी। 10 जुलाई के पश्चात अचानक यात्रा का योग बन रहा है। संतान को शारीरिक कष्ट होने की सम्भावना है-- ध्यान रखें। साथ ही माह के उत्तरार्द्ध में अपने स्वयं के स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहना होगा।
 शुभ तिथियाँ:-10,18,19,20,25,26,27
अशुभ तिथियाँ:-2,3,4,11,12,16,30,31
उपाय:-घर में प्रात: एवं सायं काल को नित्य शुद्ध घी का दीपक जलाएं।
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------